जानिए SIP के बारे में सब कुछ SIP क्या है SIP काम कैसे करता है ?

इस ब्लॉग में हम SIP इन्वेस्टमें के बारे में जानकारी देंगे और हमें ये जानने की कोशिश करेंगे कि SIP इन्वेस्टमेंट का मतलब क्या होता है SIP इन्वेस्टमेंट काम कैसे करता है और SIP इन्वेस्टमेंट के द्वारा आप पावर आफ कंपाउंडिंग का फायदा कैसे उठा सकते हैं और हम जानेंगे SIP इन्वेस्टमेंट के की फीचर्स के बारे में और जानेंगे कि हमें SIP इन्वेस्टमेंट में क्यों इन्वेस्ट करना चाहिए

SIP (SYSTEMATIC INVESTMENT PLAN) क्या होता है :-

SIP एक तरह का जरिया होता है म्यूच्यूअल फंड स्कीम में इन्वेस्ट करने का SIP के माध्यम से आप आसानी से फ्लैक्सिबल तरीके से स्मार्ट तरीके से इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं और इन्हीं सब खूबियों की वजह से SIP प्लान बहुत अधिक लोकप्रिय प्लान है।

SIP का मतलब :-

Systematic investment plan के जरिए आप रेगुलर म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं यहां पर आपके पास एक ऑप्शन रहेगा कि आप प्रतिमा एक निश्चित अमाउंट को म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर सकते हैं यह अमाउंट आपकी इच्छा के अनुसार होता है कि आप कितना इन्वेस्ट करना चाहते हैं या अमाउंट ₹500 भी हो सकते हैं 1000 भी हो सकते हैं जितना अधिक आप चाहे उतना अधिक हो सकता है इस अमाउंट को आप प्रति सप्ताह प्रतिमाह या 6 माह किस भी रूप में आप जीस रूप मे चाहे उस रूप में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

SIP काम कैसे करता है :-

SIP का काम करने का तरीका बहुत ही आसान है सबसे पहले आपको यह निर्धारित करना है कि आपको कितना पैसा इन्वेस्ट करना है तो मान लीजिए यदि आप ₹10000 इन्वेस्ट करना चाहते हैं और उसके बाद आपको यह निर्धारित करना होता है कि इस ₹10000 को कब इन्वेस्ट करना है यानी आपको इसे प्रति सप्ताह के रूप में देना है या प्रतिमाह के रूप में देना है या 6 महीने के रूप में देना है या 1 साल के रूप में देना है तो मान लीजिए हम यहां यह मान लेते हैं कि आप इसे प्रति माह के रूप में इन्वेस्ट करते हैं और आपने म्यूच्यूअल फंड का स्कीम चुन लिया तो प्रतिमाह करके आपके अकाउंट से ₹10000 ऑटोमेटिक कटता जायेगा जीतना आप ने प्रतिमाह का निर्धारित किया और म्यूचुअल फंड में अपने आप ही वह इन्वेस्ट हो जाएंगे और जब भी आपका पैसा उस म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट होगा तो उस पैसे से म्यूच्यूअल फंड खरीदारी करेगा पर जिस कीमत पर चल रहे होंगे और उसके बदले आपको कुछ सर्टन नंबर ऑफ म्यूच्यूअल फंड यूनिट असाइन किए जाते हैं और म्यूच्यूअल फंड यूनिट असली इन्वेस्टमेंट है म्यूच्यूअल फंड का मार्केट में उसको रिप्रेजेंट करता है और हर महीना जब आप अपना पैसा इन्वेस्ट करेंगे और उन पैसों को म्यूच्यूअल फंड मार्केट में इन्वेस्ट करने जाएगा तो हर महीना प्राइस भी अलग-अलग रहेगा जिसे आप की खरीदारी मार्केट में अलग-अलग कीमत पर होगी इससे इन्वेस्टर को रूपी कॉस्ट एवरेजिंग का फायदा मिल जाएगा और जब आप SIP इन्वेस्टमेंट के जरिए इन्वेस्टमेंट करना शुरू करते हैं तो आपको पावर आफ कंपाउंडिंग का एडवांटेज भी मिलेगा

रूपी कॉस्ट एवरेजिंग और पावर ऑफ कंपाउंडिंग क्या है:-

अब आप यह सोच रहे होंगे कि रूपी कॉस्ट एवरेजिंग और पावर आफ कंपाउंडिंग क्या है तो चलीये आपको बताते हैं। मान लीजिए आपका ₹10000 रुपए का SIP इन्वेस्टमेंट है वह आप म्यूच्यूअल फंड के बदले एक स्टॉक में इन्वेस्ट करते हैं और उस स्टॉक का प्राइस हजार रुपए होता है तो इस महीना जब आप SIP इन्वेस्टमेंट करेंगे तो आपके ₹10000 के बेसमेंट के बदले उस कंपनी के 10 शेयर्स मिलेंगे और मान लीजिए जब अगले महीने आप सिर्फ इन्वेस्टमेंट करने जाएंगे तो उस समय उस स्टॉक का प्राइस ₹2000 होगा तब आपके SIP इन्वेस्टमेंट के बदले आपको उस कंपनी के 5 शेयर्स मिलेंगे उससे अगले महीने जब आप इन्वेस्ट करने जाएंगे तो शेयर का प्राइस 2000 से नीचे गिर के ₹500 हो जाता है तब आपके ₹10000 कि SIP इन्वेस्टमेंट के बदले आपको उस कंपनी का 20 शेयर्स मिलेगा अब अगर आप यहां पर एक कॉमन पैटर्न नोटिस कर रहे होंगे आपका जो इन्वेस्टमेंट होता है वह फिक्स होता है हर महीना यहां पर आपका हर महीने का इन्वेस्टमेंट फिक्स होने के कारण मार्केट नीचे जाता है तो अपने आप आपकी खरीदारी ज्यादा हो जाती है जहां पर आपको ज्यादा शेयर मिलते हैं और जब मार्केट ऊपर जाता है तो आपकी खरीदारी अपने आप ही कम हो जाती है और आप कम शेयर्स खरीदते हो इसका फायदा आपको यह होगा कि चाहे मार्केट ऊपर जाए या नीचे आए आपका एवरेज बाइग प्राइस बैलेंस होता रहेगा इसी को हम टेक्निकल टर्म में बोलते हैं रूपी कॉस्ट एवरेज (Rupee cost avreaging) और जब भी आप SIP के जरिए म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करते हैं तो आपको रूपी कॉस्ट एवरेजिंग का फायदा मिलेगा जिससे चाहे मार्केट ऊपर जाए या नीचे आए आप निश्चिंत होकर आप अपना पैसा इसमें निवेश कर सकते हैं।

SIPइन्वेस्टमेंट के कुछ की फीचर्स (Features of SIP)

(1) SIP हमेशा ओपन एंडेड फंड होता है मतलब आप जब चाहे तब अपना पैसा बाहर निकल सकते हैं।

(2) यहां पर कोई भी Tenure फिक्स नहीं होता है मतलब इतने साल तक इन्वेस्ट करना है इतने साल तक नहीं करना है ऐसा कोई कमिटमेंट पीरियड इसमें नहीं होता है।

(3) मान लीजीए आपने अपना tenure सेट कर लिया कि आप 5 साल तक इन्वेस्टमेंट करेंगे पर अगर आप नहीं भी कर पाए अपना पैसा निकालना चाहते हैं या उसे 2 साल में ही कंप्लीट करना चाहते हैं तो आप कर सकते हैं।

(4) Perpetual SIP मे भी आप इन्वेस्ट करना चाहते हैं इसमें कोई टाइम फिक्स नहीं होता जितना लंबा चाहे उतना लंबा टाइम तक इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं।

(5) Tenure खत्म होने से पहले या tenure खत्म होने के बाद आप जब चाहे तब अपना पैसा निकाल सकते हैं।

SIP मे क्यो इन्वेस्टमेंट करना चाहिए

तो इसका सबसे पहला कारण है याह है की यह आपकी मदद करेगा मार्केट वॉलेट एलईडी को मैनेज करने में

SIP मे इन्वेस्टमेंट करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं लगते

आप इसमे कम से कम अमाउंट से भी इन्वेस्टमेंट करना चालू कर सकते हैं।

कैसे अपने लिए बेस्ट SIP चुने :-

किसी भी व्यक्ति का SIP चुनने से पहले यह देखना चाहिए कि वह किस वित्तीय गोल को पूरा करने के लिए निवेश करना चाहते हैं अपनी जरूरत को समझने के बाद आप उचित म्यूच्यूअल फंड को चुन सकते हैं इंटरनेट पर आपको यह जानकारी आसानी से मिल जाएगी कि पिछले कुछ समय में किसी स्कीम पर कितना रिटर्न मिला है आपको यह भी ध्यान रखना है कि आप उन्हें स्कीम को चुने जिसका जोखिम उठाने के बाद आपके पास क्षमता हो अगर आप कम जोखिम उठाना चाहते हैं तो उन्हीं विकल्पों को चुनना होगा जिसमें जोखिम कम है।

आज हमने सीखा

मैं आशा करता हूँ आप लोगों को सिप क्या है (SIP in Hindi) के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा.

मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.लेकिन फिर भी अगर आपको हमारी इस पोस्ट SIP क्या होता है in hindi में कहीं कोई कमी दिखाई दे तो कृपया कमेंट बॉक्स में अपनी राय दे और हमें उस कमी को सुधारने में मदद करें ,धन्यवाद.यदि आपको मेरी यह लेख अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Leave a Comment