बाल दिवस पर हिंदी में भाषण 2022 (Children’s Day Speech in Hindi 2022 )

बाल दिवस के मौके पर हिंदी में निबंध और बाल दिवस पर निबंध की प्रतियोगिता बच्चों के बीच कराई जाती है बच्चे बाल दिवस की भाषण बाल दिवस की निबंध में भाग लेते हैं कुछ बच्चों के लिए या आसान होता है लेकिन कुछ8 के लिए बाल दिवस निबंध बाल दिवस भाषण उनके लिए बहुत मुश्किल कार्य होता है इसलिए बाल दिवस मे भाषण या बाल दिवस निबंध लिखने की समस्या दूर होती है

भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी का जन्म 14 नवंबर 1889 मे हुआ था सब बच्चे पंडित जवाहरलाल नेहरू को चाचा नेहरू भी प्यार से कहते थे इसलिए इससे ध्यान मे रखते हुए चाचा नेहरू जी के जन्मदिन पर मनाया जाता है बाल दिवस के मौके पर स्कूलों मे प्रतियोगिता आयोजन किया जाता है इसका उद्देश्य यह है कि पंडित जवाहरलाल नेहरू बच्चों से कितना लगाव था यह जानकारी देना है यही जानकारी देना है चाचा नेहरू अपने शर्ट के पॉकेट में लाल गुलाब हमेशा रखा करते थे

14 नवंबर को बाल विकास स्कूलों में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है और बच्चों के लिए प्रतियोगिता खेलकूद और बहुत सारी चीजों का आयोजन करते हैं

बाल दिवस पर हिंदी में भाषण (Children’s Day Speech In Hindi) – भारत में बाल दिवस
बच्चों को देश का भविष्य मानने वाले भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू बच्चों से विशेष स्नेह रखते थे और बच्चे भी उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कहते थे। पंडित जवाहरलाल नेहरू बच्चों के प्रति दोस्ताना रवैया रखने के कारण बच्चे उन्हें चाचा नेहरू कहते थे। ऐसा भी माना जाता है कि महात्मा गांधी के निकट होने के कारण इनको चाचा की संज्ञा मिली क्योंकि ये महात्मा गांधी के लिए छोटे भाई जैसे थे और महात्मा गांधी को सब बापू कहते थे, ऐसे में उनके छोटे भाई पं. नेहरू को चाचा की संज्ञा मिली। पंडित नेहरू बच्चों को किसी देश की वास्तविक शक्ति और समाज की बुनियाद मानते थे। पं. नेहरू ने कहा था, आज के बच्चे भावी भारत का निर्माण करेंगे। हम जिस तरह से उनका पालन-पोषण करेंगे उसी पर देश का भविष्य निर्भर होगा।

भारत में 1959 से बाल दिवस मनाया जा रहा है पर तब बाल दिवस 20 नवंबर को ही मनाया जाता था। लेकिन 27 मई, 1964 को पं. जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु होने के बाद इनकी स्मृति में इनके जन्म दिवस यानि 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस मनाए जाने की शुरुआत हुई। पंडित नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाना चाचा नेहरू का बच्चों के प्रति प्रेम और उनके प्रति बच्चों के लगाव को चिह्नित करने का एक प्रयास है।

सभी बच्चो का भविष्य खतरे मे है क्युकी आज बच्चे पड़ाई नही करते बल्कि अपनी घरेलू स्थिति के कारण दुकानों या किसी कलखानो मे काम कर रहे है।

बाल दिवस पर हिंदी में भाषण (Children’s Day Speech In Hindi – पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के कुछ विचार।

  1. कोई ऐसा पल जो इतिहास में बहुत कम बार आता है वह है पुराने को छोड़कर नए की तरफ जाना ।

– जवाहरलाल नेहरु

  1. जब तक मुझे खुद लगता है कि किया गया काम सही काम है तब तक मुझे संतुष्टि रहती है।

– जवाहरलाल नेहरु

  1. जो व्यक्ति सफल हो जाता है वह हर चीज फिर शांति और व्यवस्था के लिए चाहता है।

– जवाहरलाल नेहरु

  1. जीवन में डर के अलावा खतरनाक और बुरा और कुछ भी नहीं है।

– जवाहरलाल नेहरु

  1. जब भी हमारे सामने संकट और गतिरोध आते है, उनसे हमें एक फायदा तो होता है कि वे हमें सोचने पर मजबूर करते है।

– जवाहरलाल नेहरू

FAQ Question :-

प्रश्न:- भारत में चिल्ड्रेन्स डे 14 नवंबर को ही क्यों मनाया जाता है?

उत्तर:- देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू बच्चों से बहुत प्रेम करते थे। इनकी याद में इनके जन्म दिवस 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस मनाया जाता है।

प्रश्न:- चिल्ड्रेन्स डे (बाल दिवस) क्यों मनाया जाता है?

उत्तर:- बाल दिवस की शुरुआत किए जाने का मूल कारण बच्चों की जरूरतों को स्वीकार करने, पूरा करने, उनके अधिकारों की रक्षा करने और बलशोषण को रोकना है ताकि बच्चों का समुचित विकास हो सके। और चाचा नेहरू जी के अति प्रिये थे बच्चे इसीलिए बाल दिवस मनाया जाता है ।

प्रश्न:- भारत में बाल दिवस कब से मनाया जा रहा है?

उत्तर:- भारत में 1959 से बाल दिवस मनाया जा रहा है पर तब बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था। लेकिन 27 मई, 1964 को पं. जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु होने के बाद इनकी स्मृति में इनके जन्म दिवस यानि 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस मनाए जाने की शुरुआत हुई।

प्रश्न: प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म कहाँ हुआ था?

उत्तर: पंडित नेहरू का जन्म 14 नवंबर को प्रयागराज (इलाहाबाद) में हुआ था।

प्रश्न :- Children s day कब है 2022 ?

उत्तर – 14 नवंबर

प्रश्न :- बाल दिवस कब है।

उत्तर :- 14 नवंबर

प्रश्न:- जवाहरलाल नेहरू कौन थे

उत्तर :- पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे

Leave a Comment