Cryptocrrency kya hai? क्रिप्टो करेंसी क्या है पूरी जानकारी

क्या है क्रिप्टो करेंसी क्या है ब्लॉकचैन इसके बारे में हम आज आपको आसान भाषा में समझाएंगे जिससे आप इसे अच्छी तरह समझ जाए आज इसे हर कोई समझना चाहता है इससे पैसा कमाना चाहता है कैसे या काम करती है और इसकी कीमत ऊपर नीचे क्यों होती है माइनर क्या है माइनिंग क्या है पीयर टू पीयर नेटवर्क क्या है इंडिया में यह कितनी लीगल है और इसमें ट्रेड और इन्वेस्ट कैसे करना है हर चीज आपको इस ब्लॉग के जरिए सारी चीजें क्लियर हो जाएगी

इसके लिए कहानी से समझते हैं दो दोस्त थे राम और राजू राम ने राजू से ₹10 का काम करवाया और उसको ₹10 देने की वजह में तेरे को ₹10 की चॉकलेट दे देता हूं राम और राजू ने सोचा की चीजें सिंपल रहेगी हिसाब आसान है और दुनिया डिजिटल है या नहीं है कि हम दोनों हमेशा पास हो और सोचा कि हम इस टॉपिक को डिजिटल कर लेते हैं और इससे डिजिटल टॉफी बना लेते हैं हम तो डिजिटल कॉपी बना लेंगे लेकिन मुश्किल यह है की तो फिर तो डिजिटल है इससे कोई भी कॉपी पेस्ट कर सकता है ऐसा कोई भी मल्टीप्लाई कर सकता है ईमेल के जरिए कई लोगों को भेज सकता है और एक के सौ बना सकता है अब इसका कोई सलूशन हो सकता है जब राम ने राजू को चॉकलेट दिया तो उसे कंप्यूटर में डॉक्यूमेंट मे नोट कर लिया जाए के राम ने राजू को एक टॉफी दी है लिख दिया और इस हिसाब रखने वाले डॉक्यूमेंट को कहते हैं ledger ( लैजर ) अब यह एक लैजर है एक जगह मेंटेन कर रहा है वह चाहे तो हिसाब में गड़बड़ी भी कर सकता है एक का 10 लिख सकता है और वह कुछ भी कर सकता है तो यहां पर आती है एक सलूशन यहीं पर आती है वह कांति क्या यह लैजर हर कंप्यूटर में स्टोर हो रहा हो हर कंप्यूटर मैं हर हिसाबो का टोटल डिजिटल टॉफी कितनी है राम के पास कितनी है राम ने राजू को एक टॉफी दी

तो राजू के पास कितने टॉफी है या हिसाब सभी कंप्यूटर में हो रहा होगा तो अगर एक व्यक्ति गड़बड़ करने की कोशिश करेगा तो वह सारे कंप्यूटर से मिस मैच होगा और वह व्यक्ति पकड़ा जाएगा अब यह राम और राजू के उदाहरण को लेते हैं और सारे कांसेप्ट को समझते हुए जाएंगे

क्रिप्टो करेंसी

यह तो डिजिटल चॉकलेट थी जो उन्होंने आपस में अदला-बदली की वह एक तरह के क्रिप्टो करेंसी है

क्रिप्टो मतलब सीक्रेट और करेंसी मतलब गुड्स और सर्विस खरीदने का जो मीडियम है वह करेंसी है आप लोगों ने कई तरह की क्रिप्टो करेंसी का नाम सुना होगा जैसे कि बिटकॉइन रिप्पल एथेर्म ethereum डोज कॉइन यह जो पब्लिक लैजर है ऐसे बहुत सारे कंप्यूटर मेंटेन कर रहे हैं उसे कितने सारे लोग मिलकर मेंटेन कर रहे हैं यह है पियर टू पियर नेटवर्क यानी पर्सन टू पर्सन नेटवर्क कई सारे लोग मिलकर उस लैजर को मेंटेन कर रहे हैं वह किसी एक का नहीं है वह अनेक का लैजर है और वह कैसे मेंटेन होता है उसे कहते हैं ब्लॉकचेन

ब्लॉकचेन दो शब्दों से मिलकर बना है ब्लॉक और चैन जैसे ट्रेन के कई डब्बे होते हैं एक डब्बा भर गया तो दूसरा लगा दिए उसी तरह यह ब्लॉकचेन काम करता है एक ब्लॉक में ट्रांजैक्शंस भर गई तो उसका अगला ब्लॉक छोड़ जाता है और जो ट्रांजैक्शन भर जाती है उसी के साथ दूसरा ब्लॉक जुड़ा होता है हर ब्लॉक में ट्रांजैक्शन शुरू होती है उसमें पिछले ट्रांजैक्शन के साथ जोड़ी होती है मतलब यह है कि हर ट्रांजैक्शन आपस में कनेक्टेड है हर ब्लॉक एक चैन के रूप में जुड़ी हुई है या ब्लॉक चैन एक कंप्यूटर में नहीं बहुत सारे कंप्यूटर में ट्रांसपेरेंसी के साथ अवेलेबल रहता है ऐसे में कोई चाहे चिट करना चाहे तो यह फ्रॉड करना चाहे तो वह व्यक्ति ट्रैक हो जाता है अब मान लेते हैं राम और राजू दोनों के पास क्रिप्टो करेंसी है राम के पास जो बिटकॉइन है उसने एक बिटकॉइन राजू को दे दिया अब यह सारे कंप्यूटर काम पर लग जाते हैं वह जल्दी जल्दी काम में लग जाता है और यह चेक करता है इसकी क्या सच में राम के पास दो बिटकॉइन है ओके सारे ट्रांजैक्शन के बाद सच में उसके पास क्या 2 बिटकॉइन है अब उसने एक बिटकॉइन राजू को दे दिया तो अब उसके पास एक ही रह गए हैं तो अब राजू के सारे ट्रांजैक्शन चेक हुए और राजू के 1 बिटकॉइन ऐड हो गया यह सारी ट्रांजैक्शन यकुलिसि के साथ ट्रांजैक्शन कंप्लीट हो जाती है यही है ब्लॉकचेन तो जो भी व्यक्ति इस पब्लिक लैजर को मेंटेन कर रहे हैं इसके रिस्पांसिबिलिटी ले रहे हैं उनको कहते हैं माइनर और इस प्रोसेस को मेंटेन करना वैलिडेट करना इसे कहते हैं माइनिंग इसे किसी को बैठ कर नही करना होता ऐ सब सिस्टम जनरेटर होता है इससे सब कुछ ऑटोमेटिक होता है लेकिन इसके लिए स्पेशल कंप्यूटर लगते हैं और स्पेशल सॉफ्टवेयर लगता है और इस प्रोसेस में माइनिंग में जो टाइम लग रहा है और पैसा लग रहा है तो माइनर को उसी करेंसी में कुछ रिवॉर्ड मिलता है तो आप लोग सब कहोगे कि चलो ठीक है यह क्रिप्टो करेंसी एक प्राइवेट डिजिटल करेंसी है जिसमें जो भी ट्रांजैक्शन होते हैं वह एक तरह का पब्लिक लैजर होती मे रिकॉर्ड होती है कई तरह के सिस्टम में ब्लॉकचेन के साथ मेंटेन होती है यह समझ आ गया की माइनर है जिसको रिकॉर्ड कर रहा है जिसके सिस्टम उसको रिकॉर्ड कर रहे हैं माइनिंग भी क्लियर हो गया अब यहां पर एक सवाल आएगा मेरे पास जो पैसा है वह हर सिस्टम में मेंटेन हो रहा है तो यहां कोई प्राइवेसी ही नहीं है हर किसी को पता है कि किसके पास कितना पैसा है तो यह सही नहीं है तो यहीं पर आता है क्रिप्टो करेंसी का स्ट्रांग पिलर और वह है क्रिप्टोग्राफी ( cryptography) क्रिप्टोग्राफी मतलब होता है कि सबकुछ कौन कोट में है उस सिस्टम के अंदर कोड बनता है जैसे b2 के bg यह एक कोड हो सकता है यही सबसे बड़ा कारण है क्रिप्टो करेंसी के शुरुआत का और क्रिप्टो करेंसी के बढ़ते पापुलैरिटी का क्योंकि कुछ लोगों को यह प्रॉब्लम थी कि जब पैसा हमारा है तो इसका कंट्रोल किसी दूसरे के हाथ में क्यों दें बैंक banks अथॉरिटी authoritirs एजेंसी agencies उनके हाथ में क्यों दूं गवर्नमेंट जब चाहे तब इंसुलेशन ( inflation) बढ़ा दे नोट छप गई inflation बढ़ गई और inflation घट गई रुपए की वैल्यू कम हो गई डॉलर की वैल्यू बढ़ गई एक तरह की चीजों से लोगों को प्रॉब्लम problam थी कि ऐसा क्यों नहीं हो सकता की करेंसी decentralized डिसेंट्रलाइज हो जाए किसी एक का कंट्रोल ना हो जब करंसी सभी की है तो कंट्रोल भी सबकी होनी चाहिए मेरे पास कितना पैसा है यह बैंक में बैठे लोगों को क्यों पता चलना चाहिए ऐसी कई ट्रेडिंग एजेंसी को क्यों पता हो कि मेरे पास कितना पैसा है जब सबके पास इसका कंट्रोल है तो इसकी प्राइस price कैसे कंट्रोल होती है तो सुनने में आता है कि बिटकॉइन का रेट बढ़ गया और बिटकॉइन का रेट घट गया यहां हर क्रिप्टो करेंसी में क्या डिफाइन होता है कि टोटल कितने कॉइंस प्रोड्यूस होंगे total number of coins are fixed जब कोई भी चीज फिक्स होती है और लिमिटेड होती है तो ओके जो cots क्शस्ट होती है वह डिपेंड करती है कि उसके कितने डिमांड demand है उदाहरण के लिए एक जमीन का टुकड़ा है वह एक फिक्स fixed जमीन land है एक लिमिटेड limited है और जब उस जमीन को खरीदने वाले बहुत ज्यादा होंगे टॉकी प्राइस price बढ़ जाती है और वही उस जमीन को कम लोग खरीदना चाहते हैं तो उसकी प्राइस घट जाती है इसी तरह से इस क्रिप्टो करेंसी में किसी करेंसी की डिमांड नजर आ रही होती है यूसेस नजर आ रही होती है और इसको बहुत सारे लोग खरीदना चाहते हैं तो उसकी प्राइस बढ़ जाती है और आप अपोजिट साइड में प्राइस घट जाती है तो बिटकॉइन्स सप्लाई में 21 मिलियन इसके डिमांड के बढ़ने या घटने से इसकी प्राइस चेंज price change होती है

2010 में बिटकॉइन का रेट था ₹20 2010 से 2021 के बीच में या चला गया था 44 45 लाख रू तक और आज के डेट में इसकी प्राइस कम से कम ₹3000000 है अगर किसी ने 2010 में ₹100 लगाए होते तो तो उसके पास आज 2021 में डेढ़ करोड़ रुपए होते

क्रिप्टो करेंसी के price इस पर भी डिपेंड करते हैं की न्यूज़ क्या है कंपनी का प्लान कर रही है और इन्वेस्टर क्या प्लान कर रहे हैं जैसे musk ने कहा था मार्च मे की tesla बिटकॉइन एक्सेप्ट करना शुरू कर देगी तो लोगों ने बिटकॉइन की रेट बढ़ने वाली है यह सोचकर सभी बिटकॉइन खरीदने लगे और बिटकॉइन का रेट बढ़ना शुरू हो गया और मई में कहते हैं कि टेस्ला tesla बिटकॉइन एक्सेप्ट नहीं करेगा और बिटकॉइनएलो मास्क के एलान से $60000 तक पहुंच गया था वह मई में 30,000 डॉलर तक आ गया इसको musk dip कहते हैं

Advantages of crptocurrency

डिसेंट्रलाइज ( decentralized ) है कोई एक कंट्री कोई एक गवर्नमेंट अलग-अलग पावर इसको कंट्रोल नहीं कर रही इंडिविजुअल इसे कंट्रोल नहीं कर रही यह सबके साथ है यह सबके लिए है यह सब के थ्रू कंट्रोल होती है

इसमें लोगों को एक बेनिफिट बहुत बड़ा नजर आता है

No government control

गवर्नमेंट के डिसीजन की वजह से 2 देशों डिसीजन की वजह से उनका पैसा इफेक्ट नहीं हो रहा उनकी फाइनेंशियल कैपेबिलिटी अफेक्ट नहीं हो रही

उदाहरण

₹100 की कीमत 10 साल पहले बहुत अलग थी और आज अलग मतलब कि महंगाई बढ़ती ही जा रही है गवर्नमेंट नोट प्रिंट कर सकती है और पूरी इकोनामी economy ऊपर नीचे हो सकती है लेकिन क्रिप्टो करेंसी लिमिटेड होती है जैसे बिटकॉइन है 21 मिलियन इसके आगे नंबर नहीं जाता है तो ऐसा नहीं है कि किसी ने कॉइन प्रोड्यूस कर दी और इकोनामी हिला दी ऐसा नहीं होता है

Safty

अगर हम की सेफ्टी बात करें तो बहुत से लोगों का मानना है कि क्योंकि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी यूज use होती है तो बहुत रिया रिलायबल है ब्लॉकचेन सिर्फ करेंसी में ही नहीं बल्कि आने वाले टाइम में भी use होगी

Blockchain का उपयोग

Education

Helthcare

Data management

Other areas

कई सारे एरियाज में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी use किया जा सकता है

Disadvantages of cryptocurrency

1 No government and authority

क्रिप्टो करेंसी में कोई एक गवर्नमेंट या अथॉरिटी नहीं होती है तो अगर कोई प्रॉब्लम आती है तो कंप्लेंट करने किसके पास जाओगे यह किसी एक के कंट्रोल में नहीं है अगर इसका फायदा आपको है तो इसका नुकसान आपको ही है क्योंकि यह एक सीक्रेट करेंसी है

2 unethical uses

इसका डिसएडवांटेज यह भी है कि इसका उपयोग एथिकल काम में इसका पेमेंट करते हैं

3 not eco friendly

जो माइनिंग का प्रोसेस होता है यह इको फ्रेंडली नहीं है इसमें बहुत ज्यादा पावर use होती है इसमें बहुत ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी यूज होती है मतलब रिसोर्सेज यूज होती है और आगे इसके लिए भी कुछ काम किया जाए यही बोल सकते हैं क्योंकि अगर हम आगे बढ़ रहे हैं तो किसी चीज का नुकसान करके ना बड़े नेचर का या किसी और चीज का ऑफिस को भी ध्यान में रखकर प्रॉब्लम सॉल्व करें और इको फ्रेंडली बनाया जाए और safe बनाए जाएं

क्या क्रिप्टो करेंसी इंडिया में लीगल है Kya cryptocurrency india mai legal hai ?

क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्ट करना लीगल है लेकिन यह अभी भी लीगल टेंडर ऑफ मनी legal tender of money नही है मतलब आप इसको पैसों की जगह यूज use नहीं कर सकते जैसे कुछ कंट्री में इसे लीगल टेंडर माना जाता है क्रिप्टो करेंसी से आप खरीद सकते हो सकते बेच सकते हो मार्केट में जाकर कुछ ले सकते हो तो अगर आप इंडिया में चाहो कि इंडिया रुपए की जगह बिटकॉइन दे दो तो यह भी अलाउड नहीं है

लेकिन क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्ट होल्ड और ट्रेड करना 100 % लीगल है

2018 me RBI ने स्ट्रिक्टली मना किया गया था की क्रिप्टो करेंसी से रिलेटेड ट्रांजैक्शन मे इंवॉल्व नहीं हो सकते है

लेकिन 2020 में एक बहुत बड़ा डिसीजन आया था कि सुप्रीम कोर्ट ने आरबीआई को इंस्ट्रक्ट किया था कि यह बैन हटा दिया जाए जिसके बाद बहुत सारे लोगों ने क्रिप्टो करेंसी में पैसा इन्वेस्ट करना शुरू किया

अगर आप में से कोई क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्ट करना चाहता है अपने पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करना चाहता है या क्रिप्टो करेंसी को एक्सपीरियंस करना चाहता है तो क्या करें

तो इसके लिए सिंपल और सिर्फ सॉल्यूशन है 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने इंडियन बैंक को क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड और इन्वेस्ट करने की एक्सेप्टेंस दे दी थी तो आप इसमे आसानी से इन्वेस्ट कर सकते हैं

आज हमने सीखा

मैं आशा करता हूँ आप लोगों को ( cryptocurrency in hindi ) के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा.

मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.लेकिन फिर भी अगर आपको हमारी इस पोस्ट cryptocrrency क्या होता है in hindi में कहीं कोई कमी दिखाई दे तो कृपया कमेंट बॉक्स में अपनी राय दे और हमें उस कमी को सुधारने में मदद करें ,धन्यवाद.यदि आपको मेरी यह लेख अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

Leave a Comment